How To Use Anything Best way

मितव्ययिता का जीवन- Frugal life

किसी भी चीज का उपयोग करते हुए, हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि इस पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधन सीमित मात्रा में उपलब्ध है। यदि हम हमारे प्राकृतिक संसाधनों का अनुचित रुप से अंधाधुंध उपयोग करेंगे तो आने वाली पीढ़ी के लिए हम कुछ नहीं छोड़ पाएंगे। सभी महान लोगों ने मितव्ययिता का जीवन जिया है और वह ज्ञान हमें भी उपलब्ध है। चलिए देखते हैं बुद्ध के जीवन का यह प्रसंग कि उन्होंने संसाधनों का उपयोग किस तरह से किया जाना चाहिए, बताया है। How To Use Anything Best way

English Point
Learn Spoken English Easily

महात्मा बुद्ध प्रतिदिन के प्रवचन के बाद शांत भाव से बैठे थे। तभी उनसे एक अनुयाई ने प्रार्थना की। प्रभु! मुझे आपसे एक निवेदन करना है।

बुद्ध ने कहा: बताओ। क्या कहना चाहते हो?

अनुयायी ने कहा: मेरे वस्त्र पुराने हो चुके हैं। अब वे पहनने योग्य नहीं रहे हैं। यदि आप उचित समझे तो मुझे नए वस्त्रों की आवश्यकता है।

बुद्ध ने अनुयायी के वस्त्रों का निरीक्षण किया और सच में उन्हें बहुत ही जीर्ण शीर्ण पाया। वे जगह जगह से बहुत घिस चुके थे। अतः उन्होंने एक अन्य अनुयायी को उसे नए वस्त्र देने का अनुरोध किया। How To Use Anything Best way

अगले दिन बुद्ध ने अनुयाई से पूछा, क्या तुम अपने नए वस्त्रों में आराम से हो? किसी अन्य वस्तु की आवश्यकता हो तो बताओ।

अनुयायी ने कहा: धन्यवाद प्रभु। मैं इन वस्त्रों में बिलकुल आराम से हूँ। मुझे अन्य किसी वस्तु की आवश्यकता अब नहीं है।

बुद्ध ने पूछा: अब जबकि तुम्हारे पास नए वस्त्र हैं तो तुमने पुराने वस्त्रों का क्या किया?

अनुयायी ने कहा: मैं उन वस्त्रों का उपयोग अब ओढ़ने में करता हूं।

बुद्ध ने पूछा: तो तुमने अपनी पुरानी ओढ़नी का क्या किया?

अनुयायी ने कहा: प्रभु मैंने उन्हें खिड़की पर परदे की जगह लगा दिया है।

बुद्ध ने पूछा: तो क्या खिड़की में पहले पर्दे नहीं लगे हुए थे? How To Use Anything Best way

अनुयायी ने कहा: प्रभु पर्दे तो लगे हुए थे। किंतु वे खराब हो चुके थे। अतः अब मैंने उनके चार टुकड़े कर लिए है और उनका उपयोग रसोई में गरम पतीलों को आग से उतारने के लिए कर रहा हूँ।

बुद्ध ने पूछा: तो फिर रसॊइ के पुराने कपड़ों को फेंक दिया है क्या? 

अनुयायी ने कहा: नहीं, प्रभु। मैं उनका उपयोग पोछा लगाने में कर रहा हूं। 

बुद्ध ने पूछा: तो तुम्हारे पुराने पोछे का क्या हुआ?

अनुयायी ने कहा: प्रभु वे इतने तार-तार हो चुके थे कि उनका कुछ नहीं किया जा सकता था। इसलिए मैंने उनका एक-एक धागा अलग कर के उन धागों से दीपक जलाने हेतु बातियाँ तैयार कर ली है। उन्ही में से एक कल रात आपके कक्ष में प्रकाश करने हेतु उपयोग की गई थी।

इतनी चर्चा के बाद महात्मा बुद्ध अपने अनुयाई से प्रसन्न थे कि वह किसी संसाधन का अपव्यय नहीं कर रहा है और उसे यह समझ है कि किसी वस्तु का उपयोग किस तरह से अधिकतम किया जा सकता है।

कोई भी वस्तु हो, हमें उसका उपयोग अधिकतम करना चाहिए। जीवन प्रबंधन में न्यूनतम संसाधन से अधिकतम उत्पादन सिखाया जाता है। हमें भी अपने जीवन में इस नियम का उपयोग करना चाहिए। How To Use Anything Best way

यदि आपके पास हिंदी/इंग्लिश में कोई Article, Business Idea, Inspirational Story या जानकारी है जो आप दुनिया के साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें इस नंबर 9753978693 पर व्हाट्सएप करें। How To Save Money and Invest पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ badisuccess.com पर पब्लिश करेंगे। मेरा ब्लॉग पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

  1. भ्रम से उपजे डर की कहानी How To Face Your Illusion
  2. सेर और सवा सेर की कहानी How To Tackle Cheater Short Story
  3. समस्या का आसान समाधान How To Solve Big Problems
  4. क्या आप हाथी हो? How To Change Our Bad Habits
  5. धोबी का अंधा गधा How To Care Our Relations
  6. नाचने से बारिश How To Get Success 2 Great Tips
  7. अकबर बीरबल की कहानी How To Win Challenge 3 Questions
  8. महात्मा बुद्ध की 3 कहानियां How To Enjoy Great Life
  9. हेलेन केलर के अनमोल विचार How To Become Extra-ordinary
  10. आइडिया मैनेजमेंट 10 टिप्स How To Manage Your Ideas 10Tips
  11. सफलता की राह की 17 बाधाएं How To Remove Life Hurdles
Share & Help Others
error6
fb-share-icon100
Tweet 20
fb-share-icon20
एक बीज का परिवर्तन How To Transform Our Life
जूलियो इग्लेसियस भयानक दुर्घटना How To Face Life Tension

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *